यदि खेती की प्रथाओं का उपयोग केवल फसल उगाने के लिए किया जाता है, तो यह एक सीमित दृष्टि होगी| खेती को केवल फसल के रूप में नहीं सोचा जाना चाहिए|यह बात कई लोगों को चौंका सकती है|सिर्फ खेती ही कृषि नहीं है क्या? इस प्रकार सी कई सवालों के जवाब देती है आई डी ऍफ़ .

कृषि कार्योंको आसान बनानेवाला तथा कृषि निर्भर किसानों के जीवन में आशा की किरण लाने में ”इनिशिएटिव्स फॉर डेवलपमेंट फाउंडेशन (आय डी ऍफ़ ) संस्था कर रहा है|संगठन स्थायी कृषि को बढ़ावा देने में यह लगा हुआ है|इस संगठन के काम को किसान समुदायों से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिल रही  है।संगठन को सार्वजनिक क्षेत्र में भी विश्वसनीयता और विश्वसनीयता प्राप्त हुई है|

पाठशाला

आय डी ऍफ़ यह न केवल एक संस्था है, यह एक  टिकाऊ पाठशाला है| कई किसानोंकोंको कृषिजोति जो यह बनी है| ऐसे संस्था से लाभ अनुभव  अनुभव रखने वाले  किसान कहते है|

‘’२००१ में इस  संस्था का जनम हुआ| इस के वरिष्ठ मार्गदर्शक और कार्यकर्ता सभी कृषि विशेषज्ञ हैं।कृषि क्षेत्र में रूचि रखनेवाले सिंडीकेट बैंक रिटायरमेंट अधिकारियों ने इस अनोखे संगठन की नींव रखी| इसे 2001 में ही एन.जी.वो  के रूप में पंजीकृत किया गया । यह ग्रामीण जनता और किसानों के जीवन को बनाए रखने के लिए कार्य करता है|’’

प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि

‘’ग्रामीण क्षेत्र में कृषि सहित कई अन्य व्यवसाय हैं| कंपनी उन्हें बनाए रखने और प्रति व्यक्ति आय बढ़ाने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है| इस संबंध में चयनित ग्रामीण क्षेत्रों में अभ्यास मॉडल के पैकेज को अधिक स्थानीय और स्थानीय बनाने के लिए काम किया जा रहा है|’’

परिप्रेक्ष्य में बदलाव

कृषि एक समग्र परिप्रेक्ष्य है।तभी वह कृषि कहलाने के योग्य होता है यह आईडीएफ का दावा है|स्थानीय रूप से उपलब्ध प्राकृतिक संसाधनों का पर्याप्त प्रबंधन।इनमें उप–व्यवसाय  पर निर्भरता शामिल है|इससे किसानों की कठिनाई कम होगी।आईडीएफ का कहना है कि यह मुख्य रूप से राजस्व स्रोतों को बढ़ाता है|

परियोजना की प्रतिबद्धता

मिट्टी की उर्वरता बढ़ाना। उपलब्ध पानी के उपयोग की योजना, भूजल में वृद्धि,स्थानीय मिट्टी के पानी की गुणवत्ता के आधार पर विभिन्न प्रकार की फसलें बनाना।भूमि के एक टुकड़े को बर्बाद किए बिना फसल संयोजन क्रिया|इन फसलों की उपलब्धता के अनुसार उप-व्यवसाय  बनाना| सुविधा के लिए गाय, भेड़, बकरी और मुर्गी फार्म को प्राथमिकता दी जाती है|

एकीकृत कृषि का सशक्तिकरण

आय डी ऍफ़  के पास किसानों के बीच  खेती की आर्थिक व्यवहार्यता के बहुत सारे उदाहरण हैं|एकीकृत कृषि का सशक्तिकरण

आय डी ऍफ़  के पास किसानों के बीच  खेती की आर्थिक व्यवहार्यता के बहुत सारे उदाहरण हैं|इससे पहले, आईडीएफ कर्नाटक में चित्रदुर्ग चल्लकेरे में  काम कर रहा था। यहाँ के कई किसानों के घर और खेत परिसर में फसलें हैं।उद्यानिकी फसलों के साथ  इमली के पेड़ हैं। ये सभी वर्षावन में उगते हैं और फल लगते हैं|

आमदनी का जरिया

ये इमली के पेड़ सूखे के दौरान भी फल देना नहीं रोकेंगे। इससे किसान किसानों को न्यूनतम 45,000 रुपये कमाने में मदद मिलेगी। उपलब्ध है। आईडीएफ का कहना है कि किसानों का ऐसा व्यापक दृष्टिकोण होना चाहिए।

छोटे पैमाने के किसानों की चुनौतियां: 

छोटे और बहुत छोटे पैमाने पर होने वाली खेती टिकाऊ होने के लिए काम कर रही है। इस क्षेत्र में किसानों के सामने कई चुनौतियां हैं। ज्यादातर मामलों में, उन्हें बैंकों से ऋण नहीं मिलता है। कठिनाई के मामले में इमली उन्हें वित्तीय  देती है|यदि किसी निजी से उधार लिया गया है तो ब्याज दर अधिक है। यह और अधिक कठिनाई का कारण बनता है। इस मामले में, एकीकृत कृषि मॉडल में आईडीएफ सहायक हैं।

‘’आईडीएफ कृषि में चुनौतियों और समस्याओं का सामना करने के लिए आय बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। रीढ़ की हड्डी के रूप में कार्य करना। तकनीकी उपयोग कारक सार्वजनिक और बाजार क्षेत्रों में भी संबोधित किए जाते हैं। इसके अलावा, छोटे और छोटे किसानों को अपनी खेती में शामिल होने के लिए प्रेरित करना, कौशल विकास, कम लागत में अधिक फसल और अधिक लाभ दिए जाते हैं।‘’

      जैसे कि कम लागत पर अधिक दूध का उत्पादन कैसे करें; खट्टा चांच  उपयोग कर गन्ने के सफेद  उन को निपटान की प्राकृतिक विधि; इसके कई पहलुओं से उन्हें अवगत कराया जाता है। आईडीएफ मिट्टी की उर्वरता और नमी संरक्षण के बारे में भी सिखाएगा । इस संबंध में सूचना प्रौद्योगिकी सार्वजनिक क्षेत्र द्वारा ऋण प्रदान किए जाते हैं। इसके अलावा, बाजार प्रणाली बनाई जा रही है।

अध्ययन     

ऑडियो – वीडियो का उपयोग छोटे और बहुत छोटे किसानों को विभिन्न मॉडलों को सूचित करने के लिए किया जा रहा है। अध्ययन पर्यटन का आयोजन। यह सिर्फ टूर पैकेज नहीं है। दो दिन उन जगहों पर बिताए जाते हैं जहां उन्हें पढ़ाया जाता है। किसान कई लाभकारी पहलुओं को सीखते हैं और उन्हें गले लगाते हैं। इस दिशा में महिलाओं और पुरुषों के अलग-अलग समूह बनाए गए हैं।

ऋण की उपलब्धता 

पात्र लाभार्थियों को सार्वजनिक बैंकों द्वारा 30 हजार से 70 हजार तक ऋण दिया जाता है।

‘’एटीएम  रूप  कार्ड द्वारा केसीसी क्रेडिट बिज़नेस फेसिलटर्स द्वारा दिया जाता है| ५५ हजार लोगोंमेसे २१ हजार लोग शेर में भागीदार है| किसानों को कंपनी में हिस्सेदार बनाया जाता है। व्यवसाय के लिए तैयारी आयडीऍफ़  हालांकि, किसानों का व्यावसायिक संपर्क है। 14 किसान एक उत्पादक कंपनी है, और जैसे-जैसे कंपनी बढ़ती है, किसान शेयरधारक बन जाते हैं।‘’

आयडीऍफ़  जैविक – कार्बनिक संसेचन प्रणाली प्रदान करने का कार्य कर रहा है। प्राथमिकता केवल गैर-रासायनिक उत्पादों को दी जाती है। एफपीसी उत्पादों का परीक्षण और जारी किया जाता है। उत्पादों को सीधे कंपनी निर्माताओं से लिया जाता है और किसानों तक पहुंचाया जाता है। उत्पाद किसानों के लाभ के साथ बेचा जाता है।

विभिन्न स्थानों में नमूनाकरण समारोह

आईडीएफ नागमंगला, कुनिगल, गुब्बी, तुमकुर, हावेरी, रानेबेन्नूरु, ब्यादगी और धारवाड़ तालुकों में काम कर रहा है।

किसानों / समूह के उत्पादों को सीधे किसानों को बेचा जाता है। बिक्री से अधिकतम लाभ प्रत्यक्ष किसानों को जाएगा।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें: आईडीएफ कार्यालय,

फोन: 080 – 2656 8892

ಅಗ್ರಿಕಲ್ಚರ್ ಇಂಡಿಯಾ ವೆಬ್ ತಾಣದಲ್ಲಿ ಸುಸ್ಥಿರ - ಸ್ವಾಭಿಮಾನಿ - ಸಮೃದ್ಧ ಹಾಗೂ ಲಾಭದಾಯಕವಾಗಿ ಕೃಷಿ ಮಾಡಲು ಅಗತ್ಯವಾದ ಮಾಹಿತಿಗಳನ್ನು ನೀಡಲಾಗುತ್ತಿದೆ. ಇನ್ನೂ ಹೆಚ್ಚಿನ ಮಾಹಿತಿಗಳನ್ನು ನೀಡುವ ನಿಟ್ಟಿನಲ್ಲಿ ನೀವೂ ಆರ್ಥಿಕ ನೆರವು ನೀಡಬಹುದು.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here